Friday, July 27, 2007

तुम भी मेरी दीवानी हो

उदासीन और बेकल मैं
अंधियारे के आलिंगन में
खोज रहा था ऊजियारे को
एकाकीपन के बन्धन में

इन्द्रधनुष के रंगो के
जब तुमने दिये पंख पसार
कालिमा के इन बादलो का
किया जगमगाहट ने संहार

क्षण भर के मधुर आभास को
य़ुग में परिवर्तित तुमने किया
स्नेह के जीवन बन्धन का
अनमोल भेट यह मुझको दिया

हर्ष के रथ पे हो जाता सवार
सुन कर तुम्हारी हंसी निश्छल
धन्यवाद करु मैं उन देवो का
कॄति है जिनकी यह मुख उज्जवल

ना छिपी हॄदय कि आग कही
ना छिपा प्रेम का कोमल स्वर
कह गये मौन भावनावो को
संकोचित से यह कापते अधर

संबंध हमारे मित्रता का
तुमको यही तक है स्वीकॄत
चीख चीख के कहते थे
भावशुन्य तुम्हारे नयन अश्रुपुरित

सोच के तिल तिल तड़प रहा
खोया जो मैने प्यार यहाँ
सुकूमार भावना को अपनी
बन जाते देखा भार यहाँ

फिर मैने जैसे मह्सूस किया
कोमल हाथों का वह स्पन्दन
एक खूशनुमा स्वप्न हो जैसे
हमारा वो प्रथम आलिंगन

तुम इतने समीप थी मेरे
सबकुछ जैसे एक कहानी हो
फिर आखिर में बस इतना सुना
कि तुम भी मेरी दीवानी हो



Tum bhi meri diwani ho (Roman Lipi mein)

Udaseen aur bekal main
andhiyaare ke aalingan mein
khoj raha thaa ujaiyaare ko
ekakipan ke bandhan mein

Indradhanush ke rango ke
jab tumne diye pankh pasar
kaalima ke in baadlo ka
kiya jagmaghat ne sanhar

ChaN bhar ke madhur abhaas ko
Yug mein parivartit tumne kiya
sneh ke jeeavan bandhan ka
anmol bhet yeah mujhko diya

Harsh ke rath pe ho jata sawar
sun kar tumahari hansi nischal
dhanya karu main un devo ko
kriti hai jinki yeah mukh ujjawal

Naa chipi hridya ki aag kahi
naa chipa prem ka komal swar
kah gaye maun bhavnavo ko
sankochit se yeah kaapte adhar

Sambandh hamare mitrata kaa
tumko yahi tak hai swikrit
cheekh cheek ke kahte the
bhav sunya tumahre nayan ashrupurit

Soch ke til til tadap raha
khoyaa jo maine pyaar yaha
sukumar bhavana ko apni
ban jaate dekha bhaar yaha

Phir maine jaise mahsoos kiya
komal haatho kaa wah spandan
ek khusnuma swapn ho jaise
hamara woh pratham aalingan

Tum itne samip thi mere
sabkuch jaise ek kahani ho
phir akhir mein bas itna suna
ki tum bhi meri diwani ho

4 comments:

Keerti Vaidya said...

hoob..acha likhtey hai aap...

संदीप said...

प्रशंसा के लिए धन्यवाद कीर्ति

mehek said...

bahut gehrai si likhi hai wonderful.

tarun said...

this is awesome ...

-tarun