Wednesday, July 11, 2007

जीवन तरल

मेह के बूंदो के बीच
तलाशता उस गन्तव्य को
जहाँ यादें हो जायेगी धुँधली
और नही सुनाई देगी कोई पुकार

तुशार से गीली,
बेतरतीब घास पर
काँपती पुष्प पन्खुड़ियाँ
बनाये गंगा सी पावन
चादर एक ओसांक की
जिसके भीतर सिमट जाये
ञान की चेतना
देह का भान
अवचेतन में फैलता
तरल ही तरल हो जहाँ
दूर दूर तक बहता हुआ
नित नये आकारो में ढलता हुआ
टटोल सके प्राण आत्मा को
आत्मा सहलाये देह कि पर्ते

निर्मल रौशनी के बने एक घर में
वास करुँ अनंतकाल के लिये
ताकि पानी में बनती परछाइ
कभी ना बदले


Jeevan Taral (Roman Lipi mein)

meh ke boondo ke beech
talashta us gantavya ko
jaha yaadein ho jaayegi dhoondhli
aur nahi sunai degi koi pukar

tushar se geeli, betarteeb ghaas par
kaapti pusp pankhudiyaan
banaye ganga si pawan
chadar ek osank ki
jiske bhitar simat jaaye
gyan ki chetna
deh ka bhaan
avchetan mein failta
taral hi taral ho jahan
door door tak bahta hua
nit naye aakaro mein dhalta hua
tatol sake pran aatama koa
atma sahlaye deh ki parte

nirmal roshni ke bane ek ghar mein
vaas karu anantkaal ke liye
taaki paani mein banati parchai
kabhi naa badle

3 comments:

mehek said...

ati sundar,taki pani mein parchayi hai,wo na badale.

विनय प्रजापति 'नज़र' said...

निर्मल रौशनी के बने एक घर में
वास करुँ अनंतकाल के लिये
ताकि पानी में बनती परछाइ
कभी ना बदले

it's mindblowing sandeep...

विनय प्रजापति 'नज़र' said...

निर्मल रौशनी के बने एक घर में
वास करुँ अनंतकाल के लिये
ताकि पानी में बनती परछाइ
कभी ना बदले

it's mindblowing sandeep...