Monday, November 19, 2007

कुछ कमी सी है

युँ तो बहुत कुछ है पास मेरे फिर भी कुछ कमी सी है
घिंरा हूँ चारो तरफ़ मुस्कुराते चेहरो से
फिर भी जिन्दगी में उजाले भरने वाली
उस मुस्कुराहट की कमी सी है
दिख रही है पहचान अपनी ओर उठते हर नज़र में
फिर भी दिल को छु लेने वाली
उस निगाह की कमी सी है
गुँज़ता है हर दिन नये किस्सो, कोलाहल और ठहाको से
फिर भी कानो में गुनगुनाति
उस खामोशी कि कमी सी है
बढ़ रहे है कदम मेरे पाने को नयी मन्ज़िलें
फिर भी इन हाथो से छुट चुके
उन नरम हाथो की कमी सी है




Kuch kami si hai (Roman lipi mein)

yun to bahut kuch hai paas mere
phir bhi kuch kami si hai
ghiraa hoo chaaro taraf muskurate chehro se
phir bhi
jindagi mein ujaale bharne waali
us muskurahat ki kami si hai
dikh rahi hai pehchaan apni or
uthate har nazar mein
phir bhi dil ko chu lene waali
us nigaah ki kami si hai
gunztaa hai har din naye kisso, kolaha aur tahako se
phir bhi kano me gungunati us khamosi ki kami si hai
badh rahe hai kadam mere paane ko naye manzilein
phir bhi kahi peeche chut chuke
un haatho ki narmahat ki kami si hai

2 comments:

nicks said...

awesome one....very relatable and touchy...great work

mehek said...

bahut khubsurat,dil ko chu lenewali nigah ki kuch kami si hai,afrin.